Maa Brahmacharini Second Day of Navaratri | माँ ब्रह्मचारिणी

नवरात्र पर्व के दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना की जाती है। साधक इस दिन अपने मन को माँ दुर्गा के चरणों में लगाते हैं। माता दुर्गा का दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी का है।

शर्मा जी की भाग्य रेखाएँ

एक बार शहर में एक "ज्योतिषी" का आगमन हुआ..!!  माना जाता है कि उनकी वाणी... वे जो भी बताते है वह 100% सच होता है।

Story of Omkareshwar Jyotirlinga - ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा

देवताओं की बात से महेश्वर भगवान शिव को बड़ी प्रसन्नता हुई। लोकों को सुख पहुँचाने वाले परमेशवर शिव ने उन ऋषियों तथा देवताओं की बात को प्रसन्नतापूर्वक स्वीकार कर लिया।

Hinduism : culture and beliefs

The common religion of India, based upon the religion of the original Aryan settlers as expounded and evolved in the Vedas, the Upanishads, the Bhagavad-Gita,

Who is Dr. Sarvepalli Radhakrishnan ?

One of Indias most distinguished twentieth century scholars of comparative religion and philosophy, his academic appointments included the King George V Chair of Mental and Moral Science..

Maa Ganga : Mokshdayini Importance & Significance in Hinduism

In Hindu mythology, the revered Ganges has extreme significance. From the mythological point of view, this sacred river is known as Goddess Ganga. Ganga is one of the most popular rivers in the world.

Story of Maa Vaishno Devi - वैष्णो देवी की अमर कथा

माता ने एक गुफा में प्रवेश कर नौ माह तक तपस्या की। भैरवनाथ भी उनके पीछे वहां तक आ गया। तब एक साधु ने भैरवनाथ से कहा कि तू जिसे एक कन्या समझ रहा है, वह आदिशक्ति जगदम्बा है।

How to perform puja during corona?

People unable to visit temples and perform rituals due to corona virus. People can seek help from the companies which provide online puja .

Akshaya Navami or Amla Navami Significance & Importance in Hinduism

Akshaya Navami is one of the important Hindu rituals. Akshaya Navami is very favourable for doing all kind of Daan-Punya activities. 

जब गांधारी के शाप को हंसते-हंसते स्वीकार कर लिया श्री कृष्ण ( Shri Krishna ) ने

महाभारत युद्ध के पश्चात् जब श्रीकृष्ण सहित सभी पांडव गांधारी से मिलने गए, तब पुत्रशोक में विह्वल गांधारी ने आंखों की पट्टी के भीतर से ही राजा युधिष्ठिर के पैरों की अंगुलियों के अग्रभाग को....

Rudraabhishek Puja Mahashivratri 2020



© 2021 BHAGWAN BHAJAN | All Rights Reserved | Developed by Mera Online Business