Mahisasuramardini : Mahalaya

Mahisasuramardini (Bengali: মহিষাসুরমর্দ্দিনী, The Annihilator of Mahishasura) is a widely popular early Bengali radio programme that has been broadcast since 1931 on All India Radio (AIR) in Indian.

सुन्दरकाण्ड से जुड़ी 5 अहम बातें

हनुमानजी, सीताजी की खोज में लंका गए थे और लंका त्रिकुटांचल पर्वत पर बसी हुई थी। त्रिकुटांचल पर्वत यानी यहां 3 पर्वत थे। पहला सुबैल पर्वत, जहां के मैदान में युद्ध हुआ था। दुसरा नील पर्वत, जहां राक्षसों

Ugna Mahadev : उगना महादेव की कहानी

भगवान शिव एक दिन एक जाहिल गंवार का वेष बनाकर विद्यापति के घर आ गये। विद्यापति को शिव जी ने अपना नाम उगना बताया। विद्यापति की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी अतः उन्होंने उगना को नौकरी पर रखने ..

What is Karma ? कर्म क्या है?

एक राजा हाथी पर बैठकर अपने राज्य का भ्रमण कर रहा था।अचानक वह एक दुकान के सामने रुका और अपने मंत्री से कहा- "मुझे नहीं पता क्यों, पर मैं इस दुकान के स्वामी को फाँसी देना चाहता हूँ।" 

Akshaya Navami or Amla Navami Significance & Importance in Hinduism

Akshaya Navami is one of the important Hindu rituals. Akshaya Navami is very favourable for doing all kind of Daan-Punya activities. 

Durga puja : The festival of india

Durga puja is celebrated in the worship of Durga, a Hindu goddess who is the form of Shakti. This festival is celebrated every year from the sixth to the tenth day..

vishwakarma puja : Famous Indian Festival

भगवान विश्वकर्मा निर्माण एवं सृजन के देवता कहे जाते हैं। माना जाता है कि भगवान विश्वकर्मा ने ही इन्द्रपुरी, द्वारिका, हस्तिनापुर, स्वर्ग लोक, लंका आदि का निर्माण किया था।

Story Behind the Nag Panchami

परंतु सर्प के समझाने पर चुप हो गई। तब सर्प ने कहा कि बहिन को अब उसके घर भेज देना चाहिए। तब सर्प और उसके पिता ने उसे बहुत सा सोना, चाँदी, जवाहरात, वस्त्र-भूषण आदि देकर उसके घर पहुंचा दिया..

संन्यासी हो जाना चाहता है कि संन्यासी दिखना चाहता है?

चीन में एक बहुत बड़ा फकीर हुआ। वह अपने गुरु के पास गया तो गुरु ने उससे पूछा कि तू सच में संन्यासी हो जाना चाहता है कि संन्यासी दिखना चाहता है?

परमात्मा को जानने के लिए संसार जरूरी है।

मैं तुम्हें एक कहानी कहूंगा। एक धनी आदमी अपने देश का सर्वाधिक धनी व्यक्ति अशांत हो गया। बहुत निराश हो गया। उसे लगा कि जीवन अर्थहीन है। उसके पास सब कुछ था जो धन से खरीदा जा सकता था, लेकिन सब कुछ व्यर्थ

Rudraabhishek Puja Mahashivratri 2020



© 2021 BHAGWAN BHAJAN | All Rights Reserved | Developed by Mera Online Business