नारद की महल माया ( Narad wants a palace )

एक बार देवर्षि नारद के मन में आया कि भगवान् के पास बहुत महल आदि है है, एक- आध हमको भी दे दें तो यहीं आराम से टिक जायें, नहीं तो इधर -उधर घूमते रहना पड़ता है ।
.
भगवान् के द्वारिका में बहुत महल थे ।
.
नारद जी ने भगवान् से कहा - " भगवन ! " आपके बहुत महल हैं, एक हमको दो तो हम भी आराम से रहें। आपके यहाँ खाने - पीने का इंतजाम अच्छा ही है ।
.
भगवान् ने सोचा कि यह मेरा भक्त है , विरक्त संन्यासी है। अगर यह कहीं राजसी ठाठ में रहने लगा तो थोड़े दिन में ही इसकी सारी विरक्ति भक्ति निकल जायेगी ।
.
हम अगर सीधा ना करेंगे तो यह बुरा मान जायेगा , लड़ाई झगड़ा करेगा कि इतने महल हैं और एकमहल नहीं दे रहे हैं ।
.
भगवान् ने चतुराई से काम लिया , नारद से कहा " जाकर देख ले , जिस मकान में जगह खाली मिले वही तेरे नाम कर देंगे ।" नारद जी वहाँ चले ।
.
भगवान् की तो १६१०८रानियाँ और प्रत्येक के११- ११बच्चे भी थे । यह द्वापर युग की बात है ।
.
सब जगह नारद जी घूम आये लेकिन कहीं एक कमरा भी खाली नहीं मिला , सब भरे हुए थे ।
.
आकर भगवान् कृष्ण से कहा " वहाँ कोई जगह खाली नहीं मिली ।"
.
भगवान् कृष्ण ने कहा फिर क्या करूँ , होता तो तेरे को दे देता। "
.
नारद जी के मन में आया कि यह तो भगवान् कृष्ण ने मेरे साथ धोखाधड़ी की है , नहीं तो कुछ न कुछ करके, किसी को इधर उधर शिफ्ट कराकर , खिसकाकर एक कमरा तो दे ही सकते थे ।
.
इन्होंने मेरे साथ धोखा किया है तो अब मैं भी इन्हे मजा चखाकर छोडूँगा ।
.
नारद जी रुक्मिणी जी के पास पहुँचे , रुक्मिणी जी ने नारद जी की आवभगत की , बड़े प्रेम से रखा ।
.
उन दिनों भगवान् सत्यभामा जी के यहाँ रहते थे ।
.
एक आध दिन बीता तो नारद जी ने उनको दान की कथा सुनाई , सुनाने वाले स्वयं नारद जी।
.
दान का महत्त्व सुनाने लगे कि जिस चीज़ का दान करोगे वही चीज़ आगे तुम्हारे को मिलती है।
.
जब नारद जी ने देखा कि यह बात रुक्मिणी जी को जम गई है तो उनसे पूछा " आपको सबसे ज्यादा प्यार किससे है ?
.
रुक्मिणी जी ने कहा " यह भी कोई पूछने की बात है , भगवान् हरि से ही मेरा प्यार है ।"
.
कहने लगे " फिर आपकी यही इच्छा होगी कि अगले जन्म में तुम्हें वे ही मिलें ।"
.
रुक्मिणी जी बोली " इच्छा तो यही है ।"
.
नारद जी ने कहा " इच्छा है तो फिर दान करदो, नहीं तो नहीं मिलेँगे । आपकी सौतें भी बहुत है और उनमें से किसी ने पहले दान कर दिया उन्हें मिल जायेंगे।
इसलिये दूसरे करें इसके पहले आप ही करदे ।
.
रुक्मिणी जी को बात जँच गई कि जन्म जन्म में भगवान् कृष्ण मिले तो दान कर देना चाहियें।
.
रुक्मिणी से नारद जी ने संकल्प करा लिया ।
.
अब क्या था , नारद जी का काम बन गया ।
.
वहाँ से सीधे सत्यभामा जी के महल में पहुँच गये और भगवान् से कहा कि " उठाओ कमण्डलु , और चलो मेरे साथ ।"
.
भगवान् कृष्ण ने कहा " कहाँ चलना है , बात क्या हुई ? "
.
नारद जी ने कहा " बात कुछ नहीं , आपको मैंने दान में ले लिया है । आपने एक कोठरी भी नहीं दी तो मैं अब आपको भी बाबा बनाकर पेड़ के नीचे सुलाउँगा ।" सारी बात कह सुनाई ।
.
भगवान् कृष्ण ने कहा " रुक्मिणी ने दान कर दिया है तो ठीक है । वह पटरानी है , उससे मिल तो आयें ।"
.
भगवान् कृष्ण ने अपने सारे गहने गाँठे , रेशम के कपड़े सब खोलकर सत्यभामा जी को दे दिये और बल्कल वस्त्र पहनकर, भस्मी लगाकर और कमण्डलु लेकर वहाँ से चल दिये ।
.
उन्हें देखते ही रुक्मिणी के होश उड़ गये । पूछा " हुआ क्या ? "
.
भगवान् कृष्ण ने कहा " पता नहीं , नारद कहता है कि तूने मेरे को दान में दे दिया । "
.
रुक्मिणी ने कहा " लेकिन वे कपड़े , गहने कहाँ गये, उत्तम केसर को छोड़कर यह भस्मी क्यों लगा ली ? "
.
भगवान् कृष्ण ने कहा " जब दान दे दिया तो अब मैं उसका हो गया। इसलिये अब वे ठाठबाट नहीं चलेंगे । अब तो अपने भी बाबा जी होकर जा रहे हैं ।"
.
रुक्मिणी ने कहा " मैंने इसलिये थोड़े ही दिया था कि ये ले जायें।"
.
भगवान् कृष्ण ने कहा " और काहे के लिये दिया जाता है ? इसीलिये दिया जाता है कि जिसको दो वह ले जाये ।"
.
अब रुक्मिणी को होश आया कि यह तो गड़बड़ मामला हो गया।
.
रुक्मिणी ने कहा " नारद जी यह आपने मेरे से पहले नहीं कहा , अगले जन्म में तो मिलेंगे सो मिलेंगे , अब तो हाथ से ही खो रहे हैं । "
.
नारद जी ने कहा " अब तो जो हो गया सो हो गया , अब मैं ले जाऊँगा ।" रुक्मिणी जी बहुत रोने लगी।
.
तब तक हल्ला गुल्ला मचा तो और सब रानियाँ भी वहा इकठ्ठी हो गई। सत्यभामा , जाम्बवती सब समझदार थीं ।
.
उन्होंने कहा " भगवान् कृष्ण एक रुक्मिणी के पति थोड़े ही हैं, इसलिये रुक्मिणी को सर्वथा दान करने का अधिकार नहीं हो सकता, हम लोगों का भी अधिकार है।"
.
नारद जी ने सोचा यह तो घपला हो गया । कहने लगे " क्या भगवान् के टुकड़े कराओगे ? तब तो 16108 हिस्से होंगे ।"
.
रानियों ने कहा " नारद जी कुछ ढंग की बात करो । " नारद जी ने विचार किया कि अपने को तो महल ही चाहिये था और यही यह दे नहीं रहे थे , अब मौका ठीक है , समझौते पर बात आ रही है ।
.
नारद जी ने कहा भगवान् कृष्ण का जितना वजन है , उतने का तुला दान कर देने से भी दान मान लिया जाता है । तुलादान से देह का दान माना जाता है ।
.
इसलिये भगवान् कृष्ण के वजन का सोना , हीरा , पन्ना दे दो ।" इस पर सब रानियाँ राजी हो गई।
.
बाकी तो सब राजी हो गये लेकिन भगवान् कृष्ण ने सोचा कि यह फिर मोह में पड़ रहा है । इसका महल का शौक नहीं गया।
.
भगवान् कृष्ण ने कहा " तुलादान कर देना चाहिये , यह बात तो ठीक हे ।"
.
भगवान् कृष्ण तराजु के एक पलड़े के अन्दर बैठ गये । दूसरे पलड़े में सारे गहने, हीरे, पन्ने रखे जाने लगे ।
.
लेकिन जो ब्रह्माण्ड को पेट में लेकर बैठा हो , उसे द्वारिका के धन से कहाँ पूरा होना है ।
.
सारा का सारा धन दूसरे पलड़े पर रख दिया लेकिन जिस पलड़े पर भगवान् कृष्ण बैठे थे वह वैसा का वैसा नीचे लगा रहा , ऊपर नहीं हुआ ।
.
नारद जी ने कहा " देख लो , तुला तो बराबर हो नहीं रहा है , अब मैं भगवान् कृष्ण को ले जाऊँगा ।"
.
सब कहने लगे " अरे कोई उपाय बताओ ।"
.
नारद जी ने कहा " और कोई उपाय नहीं है ।"
.
अन्य सब लोगों ने भी अपने अपने हीरे पन्ने लाकर डाल दिये लेकिन उनसे क्या होना था । वे तो त्रिलोकी का भार लेकर बैठे थे ।
.
नारद जी ने सोचा अपने को अच्छा चेला मिल गया , बढ़िया काम हो गया । उधर औरते सब चीख रही थी।
.
नारद जी प्रसन्नता के मारे इधर ऊधर टहलने लगे । भगवान् कृष्ण ने धीरे से रुक्मिणी को बुलाया ।
.
रुक्मिणी ने कहा " कुछ तो ढंग निकालिये , आप इतना भार लेकर बैठ गये , हम लोगों का क्या हाल होगा ? "
.
भगवान् कृष्ण ने कहा " ये सब हीरे पन्ने निकाल लो , नहीं तो बाबा जी मान नहीं रहे हैं ।
.
यह सब निकालकर तुलसी का एक पत्ता और सोने का एक छोटा सा टुकड़ा रख दो तो तुम लोगों का काम हो जायगा ।"
.
रुक्मिणी ने सबसे कहा कि यह नहीं हो रहा है तो सब सामान हटाओ ।
.
सारा सामान हटा दिया गया और एक छोटे से सोने के पतरे पर तुलसी का पता रखा गया तो भगवान् कृष्ण के वजन के बराबर हो गया ।
.
सबने नारद जी से कहा ले जाओ " तूला दान ।"
.
नारद जी ने खुब हिलाडुलाकर देखा कि कहीं कोई डण्डी तो नहीं मार रहा है । नारद जी ने कहा इन्होंने फिर धोखा दिया । फिर जहाँ के तहाँ यह लेकर क्या करूँगा ?
.
उन्होंने कहा " भगवन् । यह आप अच्छा नहीं कर रहे हैं , केवल घरवालियों की बात सुनते हैं , मेरी तरफ देखो ।"
.
भगवान् कृष्ण ने कहा " तेरी तरफ क्या देखूँ ? तू सारे संसार के स्वरूप को समझ कर फिर मोह के रास्ते जाना चाह रहा है तो तेरी क्या बात सुनूँ।"
.
तब नारद जी ने समझ लिया कि भगवान् कृष्ण ने जो किया सो ठीक किया । नारद जी ने कहा " एक बात मेरी मान लो ।
.
आपने मेरे को तरह तरह के नाच अनादि काल से नचाये और मैंने तरह तरह के खेल आपको दिखाये।
.
कभी मनुष्य , कभी गाय इत्यादि पशु , कभी इन्द्र , वरुण आदि संसार में कोई ऐसा स्वरूप नहीं जो चौरासी के चक्कर में किसी न किसी समय में हर प्राणी ने नहीं भोग लिया ।
.
अनादि काल से यह चक्कर चल रहा है , सब तरह से आपको खेल दिखाया ।
आप मेरे को ले जाते रहे और मैं खेल करता रहा ।
.
अगर आपको मेरा कोई खेल पसंद आगया हो तो आप राजा की जगह पर हैं और मैं ब्राह्मण हूँ तो मेरे को कुछ इनाम देना चाहिये ।
.
वह इनाम यही चाहता हूँ कि मेरे शोक मोह की भावना निवृत्त होकर मैं आपके परम धाम में पहुँच जाऊँ । और यदि कहो कि " तूने जितने खेल किये सब बेकार है " , तो भी आप राजा हैं ।
.
जब कोई बार बार खराब खेल करता है तो राजा हुक्म देता है कि " इसे निकाल दो ।"
.
इसी प्रकार यदि मेरा खेल आपको पसन्द नहीं आया है तो फिर आप कहो कि इसको कभी संसार की नृत्यशाला में नहीं लाना है । तो भी मेरी मुक्ति है ।"
.
भगवान् बड़े प्रसन्न होकर तराजू से उठे और नारद जी को छाती से लगाया और कहा " तेरी मुक्ति तो निश्चित है ।