Maa Brahmacharini Second Day of Navaratri | माँ ब्रह्मचारिणी

Maa Brahmacharini Second Day of Navaratri | माँ ब्रह्मचारिणी

नवरात्र पर्व के दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना की जाती है। साधक इस दिन अपने मन को माँ दुर्गा के चरणों में लगाते हैं। माता दुर्गा का दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी का है।

9 Colour Dress to wear this Navaratri - नवरात्र में पहने इन रंगों के कपड़े

9 Colour Dress to wear this Navaratri - नवरात्र में पहने इन रंगों के कपड़े

नवरात्र में हर दिन मां दुर्गा के अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है. इनकी पूजा विधी भी अलग होती है. आपके लिए और भी लाभकारी हो सकता है, यदि आप पूजा के साथ नवरात्र के हर दिन के मुताबिक रंगों के कपड़े पहने

Mahisasuramardini : Mahalaya

Mahisasuramardini : Mahalaya

Mahisasuramardini (Bengali: মহিষাসুরমর্দ্দিনী, The Annihilator of Mahishasura) is a widely popular early Bengali radio programme that has been broadcast since 1931 on All India Radio (AIR) in Indian.

Mahatma Gandhi(Bapu)

Mahatma Gandhi(Bapu)

Gandhi grew up worshiping the Hindu god Vishnu and following Jainism, a morally rigorous ancient Indian religion that espoused non-violence, fasting, meditation and vegetarianism.

Story of Bhasmasura

Story of Bhasmasura

Bhasmasura pouted. He had so wished that Lord Shiva would make him invincible and immortal. Looking at Lord Shiva, Bhasmasura realized that no amount of pleading would change Lord Shiva's mind...

kyo nahi kiya jata sham mai deh sanskar

kyo nahi kiya jata sham mai deh sanskar

हिन्दू धर्म में कुल 16 संस्कार बताए गए हैं। इनमें सबसे अंतिम है मृतक संस्कार। इसके बाद कोई अन्य संस्कार नहीं होता है इसलिए इसे अंतिम संस्कार भी कहा जाता है।

 Chhath Puja (Daala chhath) : Significance of chhath puja, Rituals, Story & How to Celeberate Chhath Puja

Chhath Puja (Daala chhath) : Significance of chhath puja, Rituals, Story & How to Celeberate Chhath Puja

This is very antique festival of the Hindu religion dedicated to the God of energy, also known as Dala Chhath or Surya Shashti. 

Ugna Mahadev : उगना महादेव की कहानी

Ugna Mahadev : उगना महादेव की कहानी

भगवान शिव एक दिन एक जाहिल गंवार का वेष बनाकर विद्यापति के घर आ गये। विद्यापति को शिव जी ने अपना नाम उगना बताया। विद्यापति की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी अतः उन्होंने उगना को नौकरी पर रखने ..

Story of Maihar Devi Temple

Story of Maihar Devi Temple

भगवान शंकर ने यज्ञकुंड से सती के पार्थिव शरीर को निकाल कर कंधे पर उठा लिया और गुस्से में तांडव करने लगे। ब्रह्मांड की भलाई के लिए भगवान विष्णु ने ही सति के अंग को 52 भागों में विभाजित कर दिया।

Bhai Dooj : Importance & Significance of Bhai Dooj  in Hinduism

Bhai Dooj : Importance & Significance of Bhai Dooj in Hinduism

Bhai Dooj is widely celebrated by Hindus to mark the brother-sister relation, the celebration of this festival is quite similar to Raksha Bandhan.Bhaiya Dooj is a most prominent and legendary festival