संतोषी माता शुक्रवार व्रत (  Santoshi Mata Friday Fast Significance & Importance )

संतोषी माता शुक्रवार व्रत ( Santoshi Mata Friday Fast Significance & Importance )

माता संतोषी का व्रत पूजन करने से धन, विवाह संतानादि भौतिक सुखों में वृद्धि होती है. यह व्रत शुक्ल पक्ष के प्रथम शुक्रवार से शुरू किया जाता है

Ugna Mahadev : उगना महादेव की कहानी

Ugna Mahadev : उगना महादेव की कहानी

भगवान शिव एक दिन एक जाहिल गंवार का वेष बनाकर विद्यापति के घर आ गये। विद्यापति को शिव जी ने अपना नाम उगना बताया। विद्यापति की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी अतः उन्होंने उगना को नौकरी पर रखने ..

कथा सुनने के लाभ

कथा सुनने के लाभ

भागवत की कथा अर्थात भगवान की कथा तो है ही पर भगवान की कथा बिना भक्तो की कथा के अधूरी है. इसलिए हर शास्त्र में पुराण में भगवान की कथा के साथ साथ भक्तो की कथा भी आती है

Worship Maa Chandraghanta 3rd manifestation of Maa Durga on the 3rd day of Navaratri

Worship Maa Chandraghanta 3rd manifestation of Maa Durga on the 3rd day of Navaratri

Maa Chandraghanta is the third manifestation of Devi Durga and is worshipped on the 3rd day of Navratri. Maa Chandraghanta is the married form of Maa Parvati after becoming Lord Shiva’s consort.

करवा चौथ 2017: जानिए क्या है करवाचौथ के व्रत को सफल बनाने की पूजा विधि (Karva Chauth 2017)

करवा चौथ 2017: जानिए क्या है करवाचौथ के व्रत को सफल बनाने की पूजा विधि (Karva Chauth 2017)

करवा चौथ के व्रत में शिव, पार्वती, कार्तिकेय, गणेश तथा चंद्रमा का पूजन करने का विधान है. स्त्रियां चंद्रोदय के बाद चंद्रमा के दर्शन कर अर्ध्य देकर ही जल-भोजन ग्रहण करती हैं.

Mahatma Gandhi

Mahatma Gandhi

Anti-War Activist(1869–1948) Biography Mahatma Gandhi (October 2, 1869 to January 30, 1948) was the leader of India’s non-violent independence movement against British rule and in South Africa who ad

बजरंग बली की व्रत कथा: Shri Hanuman vrat katha

बजरंग बली की व्रत कथा: Shri Hanuman vrat katha

भारत में हनुमान जी को अजेय माना जाता है. हनुमान जी अष्टचिरंजीवियों में से एक हैं. कलयुग में हनुमान जी ही एक मात्र ऐसे देवता हैं जो अपने भक्तो पर शीघ्र कृपा करके उनके कष्टों का निवारण करते हैं |

नारद की महल माया ( Narad wants a palace )

नारद की महल माया ( Narad wants a palace )

एक बार देवर्षि नारद के मन में आया कि भगवान् के पास बहुत महल आदि है है, एक- आध हमको भी दे दें तो यहीं आराम से टिक जायें, नहीं तो इधर -उधर घूमते रहना पड़ता है ।

Durga puja : The festival of india

Durga puja : The festival of india

Durga puja is celebrated in the worship of Durga, a Hindu goddess who is the form of Shakti. This festival is celebrated every year from the sixth to the tenth day..

The Story of Eklavya and Dronacharya

The Story of Eklavya and Dronacharya

Eklavya was the son of a poor hunter. He wanted to learn archery to save the deer in the forest that were being hunted by the leopards.  So he went to Dronacharya (a master of advanced military arts) and requested him to teach him archery.